hindi poetry

मिलकर है, इस कोरोना को हराना

हालात बिगड़ रहे हैं देश के

देशवासियों को पड़ रहा है रोना

और इन सब का जिम्मेवार है

यह महामारी कोरोना

कोरोना को नजरअंदाज किए

जो घर से निकल रहे हैं

वह देख ले कि कितने

श्मशान में जल रहे हैं

कर रहे हैं हम भी कुछ लापरवाही

ये सच है,, इस वक्त हमारी जिम्मेवारी

भी कुछ है,, ना पड़ना है अफवाहों मे

ना किसी के बहकावे मे है आना

बस 2 गज की दूरी रखनी है

और मुंह पर है मास्क लगाना

सरकार अपना काम कर रही है और

हमें है अपनी जिम्मेवारी निभाना,, बचना

है खुद भी और दूसरों को भी है बचाना

बस 2 गज कि दूरी रखनी है

और मुंह पर है मास्क लगाना

और मिलकर है, इस कोरोना को हराना

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

Author

Leave a Comment