agaastyaa geet

आशा और निराशा

जीवन के हर क्षण में होती ,आशा और निराशा है।
हँसते रहना आगे बढ़ना जीवन की परिभाषा है।
जीवन के हर क्षण में होती, आशा और निराशा है।
जिसने जीवन को जीना सीखा ,बस उसको ही चैन मिला।
जो विपत्ति से नही लड़ा, वो ही हर पल बेचैन मिला।
गर संकल्पित हो आगे बढ़ें , तो मिलती नही हतासा है।
जीवन के हर क्षण में होती, आशा और निराशा है।
कर्म पथिक बन चलते जाएं ,तो जीवन का काम बने।
सूर्य उदित हो नवगति से ,तो सुबह बने और शाम बने।
कर्मठ होकर निज काम करें ,तो हर एक पल नया सा है।
जीवन के हर क्षण में होती ,आशा और निराशा है।

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

Author

Leave a Comment